आशा
——-
जीवन के इस महाकुंभ में
आशाओं का साथ ना छूटे ,
मन का दर्पण उजला रखना
मुसकानों की परी ना रूठे ….

दुख की काली बदली से
मत घबराना रातों में ,
कितनी भी हो कठिन डगर
रहे आस का दामन हाथों में …

बाल उमंग से स्वागत करना
नित नई नवेली भोर का ,
पंख पसारे पंछी बनकर
पीछा करो नभ छोर का …..

चलते रहना ही जीवन है
विजयी को आराम नहीं ,
मानव रूप है सबसे पावन
रुकना इसका काम नहीं ।
****************

सपना सक्सेना
ग्रेटर नोएडा

One thought on “

  1. चलते रहना ही जीवन है
    विजयी को आराम नहीं ,
    मानव रूप है सबसे पावन
    रुकना इसका काम नहीं ।
    bilkul sahi….chalnaa hi hai kaam kabhi ruk jaanaa naa.

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s